About Me

My photo

-Passionately post-graduate in gender studies .. gender non confirmist .strong belief -life is all about choices ,it cant be because of gender -construction ..Gender researcher -working with govt. nGO. corporate and funding organisations .
---" Adiem-home stay ' is a beleif that green living is not only sharing eco-awareness and eco-resources but also going beyond to inspire and promote and encourage others on green path . A greem homestay with green attitude .
-Adiem farms --born with a very strong change from 'consumption to production '( Even it is on a small scale )
A platform for experiments in organic farming waste re-cycling and water conserving to water conseroing ...open for tourist guests .

At personal note --
smart , intelligent hardworking , passionate independent very passionate about relationships .
Biological and Adopted mom who is more interested in parenting and having a family than mere passing genes.
Home schooled children's mom with a beleif that school cant teach children there should be ownership of learning ...'for evaluation;
In a alternative life style with changing roles of home-making n bread -earning professions with partner .

AND ALWAYS IN LOVE .

मदारी रे मदारी |




मेरे  भाई,    पिता  , तमाम  नाते  रिश्तेदार  , कोई   भी    मेरी  बात से  सहमत  नहीं है |     वो  स्त्री  पुरुष  बराबरी में  यकीन   नहीं  करते  |    वे  नहीं  मानते  की  स्त्री  दुय्यम  दर्जे  पर है |        वे  मानते  है  की  स्त्री  और  पुरुष  की कोई  बराबरी    है  ही  नहीं     |     स्त्री   तो    पुरुष  से  कितने  ही  बातो  में  श्रेष्ठ  है  एसा  उनका  मानना  है |         स्त्री  तो   अपने  में  सब कुछ  समाये  हुए  है  |     वह  पुरुष  की  सिर्फ  पत्नी  नहीं   है   वह  स्त्री  के  रूप में  उसकी  माँ  भी  है  , बहन  भी  है  | वह  अपनी  योग्यता  से  सारे    रिश्ते    बखूबी  निबाह  ले  जाती  है  | और  पुरुष  की  जिंदगी  में  घोल  देती  है  मदिरा  |  उड़ेल  देती  है  प्यार  ही  प्यार  |
सच  है  |  कितनी  गहरी  बात  कह  गये न  ये लोग  |   स्त्री  के   इतने   सारे  रूप   |  पुरुष   भी  तो  उसकी  इस  योग्यता   पर  , इस  अदा  पर   फ़िदा  है   |  वह     भी  तो  स्त्री  के  शरीर  में  इतने  सारे   रिश्ते    देखना  चाहता  है  |  उस  पर   मर  मिटता   है   |   अपनी  पत्नी   को    माता  के  रूप  में  , प्रिय  के  रूप  में  , बहन  के  रूप  में  देखने  पर  उसे  बड़ा  सुकून   मिलता है |  एक  अलग   ही  प्रकार  के  आनंद  की  अनुभूति   होती  है   एक  ही  शरीर   में  तीनो  को  पा  लेने  पर  वे  ' पत्नी  '  को  वे  देवी  का  दर्जा  दे देते  है|     वे  तो  धन्य  हो  जाते  है  जब वे  घर  लौटते  है  स्त्री  स्वादिष्ट  खाना  बनाकर  उसका इंतजार    करती   है   , फिर माँ  की  तरह  बैठकर   उसे    स्वयं   खिलाती   है   , परोसती  है  , यकीनना    . उसे जरा  भी  माँ  की  कमी  महसूस   नहीं  होने   देती  |








 और   तो  और   बड़ी  बहन  की  तरह  उसके  कपडे    संवारती   है    | दुरुस्त    करती  है     | उसे  जरा भी , रत्ती  भर  भी  बहन  की  कमी  महसूस  नहीं  होने  देती |








  रात   को  बिस्तर  पर  थकी  हारी  पत्नी नहीं बल्कि  प्रेमिका  बन  अपने  शरीर  को , अपनी  बांहों  को  फैला  देती  है  |  और  पति  को  सुखी  कर  जाती  है  |

















 सही   है    स्त्री  के  इन    विभिन्न    रूप    में    ही    पुरुष  को  मजा   आता  है  |    जिंदगी  में  वो  स्त्री से  नाटक  करवाते  है , अभिनय  करवाते है  और फिर  मजा  लूटते  है |  तालिया  पीटते  है  |  स्त्री  जितने  अलग अलग  रूपों  में  उसकी  जिंदगी  में  आती  है  उतनी  ही  वो  उसे  रसभरी  लगती  है |  स्त्री  जीतनी  अपनी  यह  कला  दिखाएगी  पुरुष  उतना  ही  उसके  तन मन का आनंद लेगा | उसके   कला  में  रस  लेगा  |  आस्वाद  लेगा  |
  बेशर्म  पुरुष   जिस  स्त्री  पर  वो  वायलेंस  करता है , , हिंसा   करता  है  , नोचता  है  , कुचलता है . खनन  करता है , उसे ही  उसने  नाम दे  डाला   ' जननी |'         पृथ्वी  भी  तो  जननी  है |                  स्त्री  की तरह  धारण   करती  है  |        उस  पर कितने  भी  अत्याचार करो  चूर्ण -विचूर्ण  होने से पीछे नहीं हटती |





हर  वो चीज  जो  अत्याचार पर भी टूटती  नहीं  , वार नहीं  करती    पुरुष   की   नज़र    में    जननी  है |            स्त्री जननी  है  ,    इसलिए  तो  उसे रौंदा  जाता है |   लूटा  खसोटा   जाता   है   |  उसके   शरीर    को   अपना   समझा  जाता  है    |             उसे  एक एसा खिलौना   बनाया जाता है     एक   एसा     खिलौना     की   जिस   खिलोने     की  चाबी  घुमाते    ही वह पुरुष के इर्द गिर्द  ढोल बजाएगी .|  नाचेगी     गाएगी   ,उसे   प्रफुल्लित    करेगी     |कुल  मिलाकर वह  पुरुष  को आनंद  भी  प्रदान  करेगी  और   आश्वस्त  भी रखेगी |

बंद  करो  मदारी  के  ताल  पर  नाचना ,  डोर  अपने  हाथ  में  लो  |  उठो  मेरे  दोस्तों  उठो|

भाड  में  जाये  ये नाटक ,                   भाड  में  जाये  ये उपमाये  , उठो    यारा      दूसरो के  डमरू पर  नाचना छोड़ो |    बंद    करो   ये    नकली   दुग्दुगी    |

, अपने  जिंदगी  की कमान अपने हाथ में लो |
 उठो मेरी  दोस्तो  उठो |

Post a Comment

Total Pageviews

Blog Archive

Translate

follow me on face book