About Me

My photo

-Passionately post-graduate in gender studies .. gender non confirmist .strong belief -life is all about choices ,it cant be because of gender -construction ..Gender researcher -working with govt. nGO. corporate and funding organisations .
---" Adiem-home stay ' is a beleif that green living is not only sharing eco-awareness and eco-resources but also going beyond to inspire and promote and encourage others on green path . A greem homestay with green attitude .
-Adiem farms --born with a very strong change from 'consumption to production '( Even it is on a small scale )
A platform for experiments in organic farming waste re-cycling and water conserving to water conseroing ...open for tourist guests .

At personal note --
smart , intelligent hardworking , passionate independent very passionate about relationships .
Biological and Adopted mom who is more interested in parenting and having a family than mere passing genes.
Home schooled children's mom with a beleif that school cant teach children there should be ownership of learning ...'for evaluation;
In a alternative life style with changing roles of home-making n bread -earning professions with partner .

AND ALWAYS IN LOVE .

जमाना क्या कहेगा ?

  

मेरे  कुछ  पुरुष  मित्र  अक्सrर  पेपर  में  आये  लेखो  की  बtहुत  तारीफ करते  है |  सोशल  मीडिया  पर  मै कैसे  पितृसत्ता  की धज्जिया उड़ाती  हू |  ये  बात  वो  मुझसे  फ़ोन  पर कहते है 

पर  फेस  बुक पर  सामने  आने  से  कतराते  है | 

 कुछ तो  friend  list  में  रहने  से भी कतराते है  |सामने  कुछ नहीं  लिखते  |       मै  gender  के  लिए  कितनी  भी  लड़ाई  कर  लू  .     कितना   भी लिख लू .     कितना भी छप जाऊ .     मै एक  औरत  हू  ,     भला  औरतो  की  प्रशंसा  खुले  आम की जा सकती  है  ?        और  वो  भी एक so  called  over   स्मार्ट  औरत की |   lol...            छी  छी छी |                     हम  राधे  माँ  की  तारीफ  कर  सकते  है  |                        अपना सब कुछ  न्योछावर  कर  अपने बेटे  और पति  को  बॉर्डर  पर  भेजने  वाली  माँ और  पत्नी  की तारीफ कर  सकते है |                       पर  अपने  हक़  के  लिए  खड़े होने  वाली  किसी औरत  की दोस्ती  हम खुल्लमखुल्ला  नहीं  बता सकते |     आखिर  जमाना  क्या कहेगा  ?इससे  उनकी  इज्ज़त  नहीं  जायेगी?


हमारे शहर  के  . हमारे चारो  तरफ उगे 'चरित्र  बुद्धजीवी  ' गोपनीय  ढंग से काले  कांच की  गाडियों  में घूमना  पसंद  करते  है  | गोपनीय ढंग  से    उनके  साथ शहर  के  किसी  बड़े  रेस्त्रा  में  सबसे  किनारे  वाली  टेबल  पर '  Chinese खाते  हुए  गप्पे   लडाना  पसंद  करते है क्यों  की  उनके  अन्दर  तो घिगौना  संस्कार  नहीं  है  , उनका  जीवन  तरंगहीन  तालाब नहीं , उत्ताल  समुद्र है | ये  जीवन  के  अनेक आनंद  को अपने  में  समाहित करने  में व्यस्त है |  हाँ .वे औरतो  के  कान में  फुसफुसाते  रहते  है ' मै  तुमसे  प्यार  करता हू |'  लेकिन सबके  सामने  कहते है  .' चुपचाप  रहो ' क्यों  की  'जात' में  आने  याने  प्रतिष्ठा हो  जाने  के  बाद , प्रतिष्ठीत  हो  जाने  के  बाद लडकियों  को लेकर  बातचीत करना  शोभा  नहीं  देता |
शोभा  देता  है  फेस  बुक पर 'जय शिवाजी ' के नारे लगा कर  पर्सनल  विंडो में  you are  great की रैट   लगाये  जाना | शोभा  देता  है , किसी कोने की टेबल  पर  महिला मित्र के साथ बियर  पीते हुए  ' स्त्री स्वत्र्न्तता की बाते  करना और घर  जा कर  माँ के पैर  छूते  हुए  बीवी को खाना लगाने  को कहना \

जय संस्कारी | जय शिवाजी |
 



Post a Comment

Total Pageviews

Blog Archive

Translate

follow me on face book